संवाददाता टी एन गुप्ता

गोरखपुर। जिला अधिवक्ता एसोसिएशन गोरखपुर अध्यक्ष कृष्ण कुमार त्रिपाठी के नेतृत्व में अधिवक्ताओं ने मुख्यमंत्री को संबोधित जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा कहा कि विशेष सचिव उत्तर प्रदेश शासन न्याय अनुभव प्रफुल्ल कमल द्वारा जारी पत्र दिनांक 14 मई 2022 द्वारा अधिवक्ताओं को अराजक तत्व बताना उनके खिलाफ एकतरफा एवं क्षेत्राधिकार व
अनुशासनात्मक कार्रवाई किए जाने के हवाले से प्रदेश के अधिवक्ताओं ने भयंकर रोश है उक्त पत्र कानून के राज में बाधक है एवं अधिवक्ताओं के प्रति बदले की भावना कुठाराघात है उत्तर प्रदेश बार काउंसिल आपात बैठक कर इसके विरोध में 20 मई 2022 को विरोध दिवस मनाने का निर्णय लिया था उपरोक्त पत्र को अगले ही दिन वापस लेना पड़ा था जो अधिवक्ताओं की आंशिक विजय एकता को दर्शाता है परंतु अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी का पत्र दिनांक 15/5 2022 पुनः न्याय के शासन अधिवक्ता सम्मान पर कुठाराघात करता है यदि अधिवक्ताओं को विश्वास में लेकर अविलंब उपचारात्मक कदम नहीं उठाए गए तो बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश के सामने चरणबद्ध आंदोलन छेड़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं रह जाएगा 22/5 2022 को बार काउंसिल उत्तर प्रदेश की आपात बैठक आयोजित की गई है जिसमें निर्णय लिया जाएगा कि आगे की क्या रणनीति अपनाई जाए जिससे अधिवक्ताओं को बराबर सम्मान मिलता रहे। ज्ञापन सौंपने वालों में प्रमुख रूप से महामंत्री योगेंद्र कुमार मिश्र वरिष्ठ उपाध्यक्ष विपिन कुमार उपाध्याय उपाध्यक्ष अजय स्वरूप पाठक उमाशंकर यादव कनिष्ठ उपाध्यक्ष उमेश चंद्र पाठक कोषाध्यक्ष संजय कुमार सिंह संयुक्त मंत्री प्रशासन अखिलेश दुबे संयुक्त मंत्री पुस्तकालय सचिन द्विवेदी संयुक्त मंत्री प्रकाशन नरेंद्र कुमार सहित अन्य अधिवक्ता सम्मिलित रहे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »